बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
May 26, 2024
दिल्ली-एनसीआर ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति राष्ट्रीय

पवार समेत तमाम विपक्षी दिग्गज जुटे सोनिया के घर, सरकार के खिलाफ हुई मंत्रणा, ममता की पार्टी को नहीं भेजा न्यौता

  • December 14, 2021
  • 0 min read
पवार समेत तमाम विपक्षी दिग्गज जुटे सोनिया के घर, सरकार के खिलाफ हुई मंत्रणा, ममता की पार्टी को नहीं भेजा न्यौता

नई दिल्‍ली। सोनिया के घर से निकलने के बाद संजय राउत ने भी कहा कि हमारा एजेंडा विपक्ष को मजबूत करने का है। कल फिर से बैठक होगी। 12 सांसदों की माफी पर उनका कहना था कि हम लड़ेंगे। ना माफी मांगी जाएगी और ना ही खेद जताया जाएगा।

बारह सांसदों को निलंबन के मुद्दे पर कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी के घर जब विपक्ष के कई कद्दावर नेता जुटे तो साफ हो गया कि गांधी परिवार हार मारने के मूड़ में नहीं है। बीते कुछ समय से ममता की पार्टी लगातार कांग्रेस को खारिज करती आ रही है। ममता का यहां तक कहना है कि कांग्रेस डीप फ्रिजर में पहुंच चुकी है। जहां से वापसी कोई हंसी खेल नहीं। अलबत्ता सोनिया ने विपक्ष के तमाम दिग्गजों को एक करके बता दिया कि वो राजनीति की कमजोर खिलाड़ी नहीं हैं।

खास बात है कि इस बैठक के लिए ममता की तृणमूल को बुलावा तक भी नहीं भेजा गया। एक खबर के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मंगलवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार और विपक्षी दलों के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की, जिसमें संसद के मौजूदा शीतकालीन सत्र में विपक्ष की साझा रणनीति को लेकर चर्चा की गई। खबर के मुताबिक बैठक में मौजूद नेताओं ने शरद पवार से कहा कि वो राज्यसभा चेयरमैन से बात करके सांसदों के निलंबन के मसले पर बीच का रास्ता निकालने की कोशिश करें।

सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ पर हुई इस बैठक में पवार के साथ ही नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला, शिवसेना नेता संजय राउत और द्रमुक नेता टी आर बालू भी शामिल हुए। इस बैठक में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे भी मौजूद थे। सूत्रों के अनुसार, सोनिया गांधी ने इस बैठक के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन को आमंत्रित किया था। इन दोनों नेताओं ने बैठक के लिए राउत और बालू को भेजा।

कांग्रेस का कहना है कि आने वाले दिनों में ऐसी और बैठकें होंगी ताकि सभी विपक्षी दलों को एकजुट किया जा सके। सोनिया के घर से निकलने के बाद संजय राउत ने भी कहा कि हमारा एजेंडा विपक्ष को मजबूत करने का है। कल फिर से बैठक होगी। 12 सांसदों की माफी पर उनका कहना था कि हम लड़ेंगे। ना माफी मांगी जाएगी और ना ही खेद जताया जाएगा।

इससे पहले राहुल गांधी और कई अन्य विपक्षी दलों के नेताओं ने संसद के मानसून सत्र के दौरान उच्च सदन में अशोभनीय आचरण को लेकर शीतकालीन सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित किए गए राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन रद्द करने की मांग करते हुए मंगलवार को मार्च निकाला तथा सरकार पर विपक्ष की आवाज दबाने का आरोप लगाया।