बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
June 16, 2024
बिहार

भाजपा सांसद स्वामी बोले, “2018 की दीवाली तक अयोध्या में बन जायेगा राम मंदिर”

  • October 16, 2017
  • 1 min read
भाजपा सांसद स्वामी बोले, “2018 की दीवाली तक अयोध्या में बन जायेगा राम मंदिर”

पटना। अगले साल दिवाली तक अयोध्या में राम मंदिर बन जाएगा। बीजेपी के सीनियर लीडर सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि उन्होंने कहा कि प्रपोज्ड राम मंदिर का कंस्ट्रक्शन जल्द ही शुरू होगा और अगले साल दिवाली तक यह भक्तों के लिए तैयार हो जाएगा। रास्ते की बाधाओं को हटा दिया गया है…
राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने शनिवार को ये दावा किया। उन्होंने कहा कि प्रपोज्ड राम मंदिर के रास्ते की बाधाओं को हटा दिया गया है। मंदिर का कंस्ट्रक्शन तुरंत या थोड़े दिनों बाद ही शुरू हो सकता है। इस हफ्ते हम दिवाली सेलिब्रेट करेंगे और अगली दिवाली तक राम मंदिर को बनाकर भक्तों को सौंप दिए जाने के आसार हैं। स्वामी ने यह बात यहां विराट हिंदू संगम (VHS) की बिहार यूनिट की तरफ से ऑर्गनाइज एक सेमिनार में कही।
क्या है विवाद?

राम मंदिर मुद्दा 1989 के बाद अपने उफान पर था। इस मुद्दे की वजह से तब देश में सांप्रदायिक तनाव फैला था। देश की राजनीति इस मुद्दे से प्रभावित होती रही है।
हिंदू संगठनों का दावा है कि अयोध्या में भगवान राम की जन्मस्थली पर विवादित बाबरी ढांचा बना था।
राम मंदिर आंदोलन के दौरान 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में विवादित बाबरी ढांचा गिरा दिया गया था। मामला अब सुप्रीम कोर्ट में है।
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने क्या दिया था फैसला?

30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट के जस्टिस सुधीर अग्रवाल एस यू खान और डी.वी. शर्मा की बेंच ने मंदिर मुद्दे पर अपना फैसला भी सुनाते हुए अयोध्या की विवादित 2.77 एकड़ जमीन को तीन बराबर हिस्सों में बांटने का आदेश दिया था।
बेंच ने तय किया था कि जिस जगह पर रामलला की मूर्ति है उसे रामलला विराजमान को दे दिया जाए। राम चबूतरा और सीता रसोई वाली जगह निर्मोही अखाड़े को दे दी जाए। बचा हुआ एक-तिहाई हिस्सा सुन्नी वक्फ बोर्ड को दिया जाए।
कौन हैं 3 पक्ष क्या था फॉर्मूला?

निर्मोही अखाड़ा: विवादित जमीन का एक-तिहाई हिस्सा यानी राम चबूतरा और सीता रसोई वाली जगह।
रामलला विराजमान: एक-तिहाई हिस्सा यानी रामलला की मूर्ति वाली जगह।
सुन्नी वक्फ बोर्ड: विवादित जमीन का बचा हुआ एक-तिहाई हिस्सा।