बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
May 26, 2024
दिल्ली-एनसीआर राष्ट्रीय

भीम आर्मी के समर्थन में जन्तरमंतर पर एकजुट हुए दलित, बनाया इतिहास

  • May 21, 2017
  • 1 min read
भीम आर्मी के समर्थन में जन्तरमंतर पर एकजुट हुए दलित, बनाया इतिहास

नई दिल्ली। देश की राजधानी में आज देशभर से एकजुट हुए दलित समुदाय ने इतिहास में नई इबारत लिख दी है | सहारनपुर सहित देशभर में दलितो पर हो रहे अत्याचार और उत्पीडन के खिलाफ पचास हजार से भी अधिक की संख्या में इकठ्ठा हुए दलितों ने दिल्ली पुलिस सहित यूपी और केंद्र सरकार को हिला दिया है | सहारनपुर में हुई जातीय संघर्ष की सीरियल घटनाओं के बाद तेजी से सुर्खियां बटोरने वाली भीम आर्मी ने रविवार को दिल्ली में काफी भीड़ इकट्ठा कर ली। सुबह दस बजे ही जंतर-मंतर भीम आर्मी के रंग में रंग गया। सरकार को भी ये अंदेशा नहीं था कि बिना किसी राजनैतिक दल के समर्थन के लाखों की संख्या में लोग इस प्रदर्शन में पहुंच जाएंगे। यहां बड़ी तादाद में युवा पहुंचे हैं और खास बात यह रही कि अधिकांश युवा यहां भीम आर्मी सेना के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण का मुखौटा लगाकर पहुंचे हैं।
रविवार को दिन निकलते ही जंतर-मंतर पर भीम आर्मी के इस कार्यक्रम की तैयारी शुरू हो गई थी। भीड़ में अधिकांश युवा नीली टोपियां और भीम आर्मी की टी शर्ट पहनकर पहुंचे। बड़ी संख्या में युवा इस प्रदर्शन में शामिल हो रहे हैं। हालांकि सुबह से ही जंतर मंतर समेत दिल्ली के आसपास के इलाकों भारी पुलिस बल तैनात किया गया है |
बाबासाहेब अमर रहे, जय भीम और अन्याय करने वाले से भी ज्यादा अन्याय सहने वाला अपराधी है जैसे नारों के साथ बड़ी संख्या में युवाओं के जत्थे जंतर-मंतर पहुंचे हैं। ऐसा पहली बार है कि दलित युवा दिल्ली में इतनी तादाद में पहुंचे हो। इस महारैली को वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल, दलित युवा नेता जिग्नेश मेवाणी, भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद, जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, शेहला रशीद, बहुजन संघर्ष दल के फूलसिंह बरैया समेत कई दिग्गज दलित नेताओं द्वार संबोधित करने का अनुमान है। भीम आर्मी के समर्थन में एकजुट हुए हजारों के जनसैलाब  यह तो तय  हो गया है कि  दलितों ने  अब  अपने हक के लिए आर पार की लड़ाई का मन बना लिया है |