बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
April 16, 2024
छत्तीसगढ़ ब्रेकिंग न्यूज़ राष्ट्रीय

महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले कालीचरण की जमानत याचिका को कोर्ट ने किया खारिज

  • January 4, 2022
  • 1 min read
महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले कालीचरण की जमानत याचिका को कोर्ट ने किया खारिज

छत्तीसगढ़। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले कालीचरण महाराज को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, छत्तीसगढ़ की रायपुर कोर्ट ने कालीचरण की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। आपको बता दें कि महात्मा गांधी को लेकर अपमानजनक टिप्पणी के बाद कालीचरण को छत्तीसगढ़ पुलिस ने मध्यप्रदेश के खजुराहो से गिरफ्तार किया था।दरअसल, रायपुर में आयोजित धर्म संसद के आखिरी दिन कालीचरण महाराज ने महात्मा गांधी को लेकर अपशब्दों का प्रयोग किया था और नाथूराम गोडसे का महिमामंडन किया था। कालीचरण की टिप्पणी के बाद से कांग्रेस नेताओं ने उनके खिलाफ आपत्ति जताई थी और रायपुर पुलिस ने केस दर्ज किया था।

कालीचरण के खिलाफ 124ए राजद्रोह और 4 अन्य धाराओं में केस दर्ज किए गए थे जिसके बाद छत्तीसगढ़ पुलिस ने उन्हें मध्यप्रदेश के खजुराहो से गिरफ्तार किया था। इससे रायपुर जिले की जिला अभियोजन अधिकारी हिना यास्मीन खान ने शुक्रवार को बताया कि प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट चेतना ठाकुर की अदालत ने शुक्रवार को कालीचरण को 13 जनवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। खान ने बताया कि कालीचरण को पुलिस हिरासत के बाद शनिवार को अदालत में पेश किया जाना था लेकिन पुलिस ने पूछताछ पूरी होने का हवाला देते हुए उन्हें आज अदालत में पेश कर दिया तथा अदालत ने कालीचरण महाराज को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

हिंदू धर्म गुरु कालीचरण ने 26 दिसंबर को रायपुर में धर्म संसद के अंतिम दिन महात्मा गांधी के खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग किया था तथा उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे को प्रणाम किया था। कालीचरण की इस टिप्पणी के बाद कांग्रेस नेताओं की शिकायत पर रायपुर जिले में पुलिस ने उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 505 (2)(विभिन्न वर्गों के बीच शत्रुता, घृणा या द्वेष पैदा करने या बढ़ावा देने वाले बयान) तथा 294 (अश्लील कृत्य) के तहत मामला दर्ज कर लिया था। बाद में इस मामले में 124ए (राजद्रोह) और चार अन्य धाराओं को भी जोड़ा गया था। बाद में छत्तीगगढ़ पुलिस ने बृहस्पतिवार तड़के कालीचरण महाराज को मध्यप्रदेश के खजुराहो के करीब से गिरफ्तार किया था तथा उन्हें अदालत में पेश किया था। अदालत ने कालीचरण को एक जनवरी वर्ष 2022 तक पुलिस रिमांड में भेज दिया था।