बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
May 26, 2024
दिल्ली-एनसीआर ब्रेकिंग न्यूज़ राष्ट्रीय

दिल्ली-एनसीआर में बेहद खराब श्रेणी में पहुंची हवा, अगले चार दिनों तक राहत नहीं, जानिए कैसे हैं हालात?

  • December 10, 2021
  • 1 min read
दिल्ली-एनसीआर में बेहद खराब श्रेणी में पहुंची हवा, अगले चार दिनों तक राहत नहीं, जानिए कैसे हैं हालात?

दिल्ली। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, शुक्रवार को दिल्ली का एक्यूआई 25 अंकों की बढ़ोतरी के साथ 314 रिकॉर्ड किया गया। इससे एक दिन पहले यह 289 रहा था। इसी तरह फरीदाबाद का एक्यूआई बीते 24 घंटे में 28 अंकों की बढ़ोतरी के साथ 291 तक पहुंच गया। इससे एक दिन पहले यह 263 दर्ज किया गया था। हालांकि, गाजियाबाद की हवा बहुत खराब श्रेणी से निकलकर खराब श्रेणी में पहुंची है। एक दिन पहले यहां का एक्यूआई 303 रहा था, जबकि शुक्रवार को यह 284 रिकॉर्ड किया गया। 

मौसमी दशाओं का साथ न देने की वजह से दिल्ली-एनसीआर की हवा शुक्रवार को बिगड़ कर बेहद खराब श्रेणी में पहुंच गई है। सबसे खराब स्थिति एक्यूआई के अधिकतम स्तर 314 के साथ दिल्ली की रही है। वायु मानक संस्था सफर का पूर्वानुमान है कि अगले चार दिनों तक दिल्ली-एनसीआर वासियों को खराब हवा से राहत मिलने की संभावना नहीं है।

सफर के मुताबिक, मिक्सिंग हाइट व वेंटिलेशन इंडेक्स कम होने के साथ हवा का साथ न देने की वजह से प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है। रात में लुढ़कने वाला पारा प्रदूषकों को जमा होने में मदद कर रहा है। सफर का पूर्वानुमान है कि आगामी दिनों में भी मौसमी दशाओं का साथ न देने की वजह से हवा की गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी में बनी रहेगी।

भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान (आईआईटीएम) के मुताबिक, शुक्रवार को हवाओं की रफ्तार छह से 10 किमी प्रतिघंटा रिकॉर्ड की गई है। मिक्सिंग हाइट का स्तर 1250 मीटर व वेंटिलेशन इंडेक्स पांच हजार वर्ग मीटर प्रति सेकेंड रिकॉर्ड किया गया। अगले दो दिनों के भीतर हवा की रफ्तार कम होने के साथ मिक्सिंग हाइट और वेंटिलेशन इंडेक्स कम होगा। इस कड़ी में शनिवार को हवा की रफ्तार आठ से 10 किमी प्रतिघंटा, मिक्सिंग हाइट का स्तर 1100 मीटर व वेंटिलेशन इंडेक्स 4500 वर्ग मीटर रह सकता है। वहीं, इसके अगले दिन आंकड़ों में कमी होगी व हवा की रफ्तार घटकर छह किमी प्रतिघंटा, मिक्सिंग हाइट का स्तर एक हजार मीटर व वेंटिलेशन इंडेक्स का स्तर 1500 वर्ग मीटर प्रति सेकेंड रिकॉर्ड किया जा सकता है। इससे प्रदूषण का स्तर बढ़ेगा व दिल्ली-एनसीआर की हवा और दमघोंटू रहेगी।