बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
July 20, 2024
अन्य राज्य उत्तर प्रदेश दिल्ली-एनसीआर ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति राष्ट्रीय

हिजाब विवाद: तस्लीमा नसरीन के बयान पर ओवैसी ने कहा- वो नफरत की प्रतीक बन गई हैं

  • February 19, 2022
  • 1 min read
हिजाब विवाद: तस्लीमा नसरीन के बयान पर ओवैसी ने कहा- वो नफरत की प्रतीक बन गई हैं

नई दिल्ली। कर्नाटक में हिजाब प्रतिबंध को लेकर चल रहे विरोध पर बांग्लादेश की लेखिका तस्लीमा नसरीन के बयान पर एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने पलटवार किया है। उन्होंने तस्लीमा नसरीन को नफरत का प्रतीक बताया है। गुरुवार को इंडिया टुडे टीवी के साथ एक विशेष साक्षात्कार में, असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मैं यहां बैठकर उस व्यक्ति को जवाब नहीं दूंगा जो नफरत का प्रतीक बन गया है। मैं यहां बैठकर उस व्यक्ति को जवाब नहीं दूंगा जो रिफ्यूजी है और भारत के टुकड़ों पर पड़ा है क्योंकि वह अपने देश में अपनी त्वचा तक नहीं बचा सकती थी, इसलिए मैं यहां बैठकर उस व्यक्ति के बारे में बात नहीं करूंगा।

असदुद्दीन ओवैसी ने अपनी टिप्पणी के जरिये तस्लीमा नसरीन की आलोचना की और कहा कि लिबरल केवल अपनी पसंद की स्वतंत्रता में खुश हैं। लिबरल चाहते हैं कि हर मुसलमान उनके जैसा व्यवहार करे। दक्षिणपंथी कट्टरपंथी चाहते हैं कि हम अपनी धार्मिक पहचान को छोड़ दें जिसकी गारंटी मुझे संविधान देता है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, “मैं यहां बैठकर भारत के संविधान के बारे में बात करूंगा जिसने मुझे पसंद की आजादी, अंतरात्मा की आजादी दी है और इसने मुझे अपनी धार्मिक पहचान के साथ आगे बढ़ने की आजादी दी है।”

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है और कोई भी उन्हें “धर्म छोड़ने” के लिए नहीं कह सकता है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, “भारत एक बहु-सांस्कृतिक, बहु-धार्मिक देश है, लेकिन कोई मुझे यह नहीं बता सकता कि मुझे कैसा व्यवहार करना है और कोई भी मुझे यह नहीं कह सकता कि मैं अपना धर्म छोड़ दूं, अपनी संस्कृति को छोड़ दूं।”

इंडिया टुडे टीवी के साथ एक विशेष साक्षात्कार में, तस्लीमा नसरीन ने दावा किया कि हिजाब, बुर्का या नकाब उत्पीड़न के प्रतीक हैं। तस्लीमा नसरीन ने कहा, “कुछ मुसलमान सोचते हैं कि हिजाब जरूरी है और कुछ सोचते हैं कि हिजाब जरूरी नहीं है। लेकिन, हिजाब को 7 वीं शताब्दी में कुछ महिलाओं द्वारा पेश किया गया था क्योंकि उस समय महिलाओं को यौन वस्तुओं के रूप में माना जाता था। उनका मानना था कि अगर पुरुष महिलाओं को देखते हैं तो पुरुषों में यौन इच्छा होगी। इसलिए महिलाओं को हिजाब या बुर्का पहनना पड़ता है। उन्हें पुरुषों से खुद को छिपाना पड़ता था।”