बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
May 26, 2024
उत्तर प्रदेश उत्तर प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

बच्चे नहीं होंगे तो ओवैसी प्रधानमंत्री कैसे बनेगें? ऐआईएमआईएम नेता का विवादित बयान

  • December 17, 2021
  • 1 min read
बच्चे नहीं होंगे तो ओवैसी प्रधानमंत्री कैसे बनेगें? ऐआईएमआईएम नेता का विवादित बयान

अलीगढ़। 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव पर नजर डालें तो ओवैसी का निशाना यूपी के 19% मुस्लिम मतदाताओं पर है। इन वोटर्स का असर यूपी की 143 सीटों पर माना जाता है।


ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (ऐआईएमआईएम ) अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसा इन दिनों उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं। मुस्लिम वोटों को लेकर उनका कहना है कि आखिर जब सभी धर्मो, जातियों का अपना नेता है तो आप अपना नुमाइंदा कब चुनेंगे। इस बीच ओवैसी की पार्टी के नेता का एक विवादित बयान सुर्खियों में है।

बता दें कि ऐआईएमआईएम अलीगढ़ जिलाध्यक्ष गुफरान नूर का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वो कहते दिखाई दे रहे हैं कि अगर असदुद्दीन ओवैसी को प्रधानमंत्री बनाना है तो मुस्लिमों को अधिक बच्चे पैदा करने होंगे। गुफरान नूर का कहना है कि मुस्लिमों के अधिक बच्चे नहीं होंगे तो फिर हमारी कौम भारत पर राज कैसे करेगी? उन्होंने कहा कि हमारी संख्या अधिक नहीं होगी तो असदुद्दीन ओवैसी साहब प्रधानमंत्री कैसे बनेंगे, शौकत अली साहब कैसे यूपी के मुख्यमंत्री बनेंगे। वीडियो में गुफरान नूर अपने आसपास मौजूद लोगों को समझाते हुए दिख रहे हैं। वो कह रहे हैं कि ”अरे जब बच्चे ना होंगे, तो हम कैसे राज करेंगे?”

उन्होंने कहा कि दलितों, मुसलमानों को डराया जा रहा है कि बच्चे पैदा करना बंद करो। क्यों बंद करें बच्चे? यह हमारे शरीयत के ख़िलाफ़ है। हालांकि इस वीडियो को वायरल होने के बाद नूर ने अपनी सफाई में कहा, ”जितनी हिस्सेदारी हमारी कुरबानी में रही है, उतनी भागीदारी पैदावार में नहीं रही है। तो मेरा निजी विचार है कि मेरे सदर ओवैसी साहब प्रधानमंत्री बनें, कैसे होगा, इस तरीके की चर्चा चली थी और इसमें मैंने कुछ गलत नहीं कहा।”

वैसे चुनावी रैलियों में खुद को सेकुलर नेता बताने वाले ओवैसी अपने आप को मुसलमानों से लेकर पिछड़ों और दलितों का अगुआ बताते हैं। लेकिन यूपी विधानसभा चुनाव पर नजर डालें तो ओवैसी का निशाना यूपी के 19% मुस्लिम मतदाताओं पर है। इन वोटर्स का असर यूपी की 143 सीटों पर माना जाता है। इसी वजह से ऐआईएमआईएम मुस्लिम बाहुल्य वाली सीटों पर चुनाव लड़ने की रणनीति बना रही है। यूपी में 70 सीटों पर 20 से 30% मुस्लिम वोट हैं तो 75 सीटों पर करीब 39 से 45 फीसदी।