बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
June 16, 2024
ब्रेकिंग न्यूज़ विशेष

रालोद का लखनऊ में प्रदर्शन, BHU वीसी की बर्खास्तगी की मांग

  • September 26, 2017
  • 0 min read
रालोद का लखनऊ में प्रदर्शन, BHU वीसी की बर्खास्तगी की मांग

लखनऊ ।  बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी की निरीह एवं निहत्थी छात्राओं पर स्थानीय पुलिस एवं यूनिवर्सिटी के सुरक्षाकर्मियों द्वारा निर्दयता के साथ किये गये लाठीचार्ज के विरोध में राष्ट्रीय लोकदल के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने जी0पी0ओ0 पार्क स्थित गांधी प्रतिमा के सम्मुख धरना परदर्शन कर गहरा आक्रोष जताया और चार सूत्रीय मांगों का ज्ञापन राज्यपाल को भेजा। धरने का नेतृत्व प्रदेष अध्यक्ष डाॅ0 मसूद अहमद ने किया। धरना स्थल पर कार्यकर्ताओं ने उग्र तेवर के साथ प्रधानमंत्री और उ0प्र0 के मुख्यमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की।

धरने को सम्बोधित करते हुये प्रदेश अध्यक्ष डाॅ0 मसूद अहमद ने कहा कि 23 सितम्बर की रात्रि में अपनी सुरक्षा की मांग कर रही बनारस हिन्दू विवि की निरीह एवं निहत्थी छात्राओं पर स्थानीय पुलिस एवं यूनिवर्सिटी के सुरक्षाकर्मियों द्वारा निर्दयता के साथ बर्बरतापूर्ण व्यवहार किया गया एवं लाठीचार्ज तथा पेट्रोल बम भी फोड़े गये। इतना ही नहीं रविवार दिनांक 24.09.2017 को भी दोपहर के समय वी0सी0 के सामने अपनी व्यथा सुनाने जा रही छात्राओं के समूह पर पुनः बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज किया गया जिसमें दर्जनों छात्राएं घायल हुयी हैं जिसकी जिम्मेंदारी प्रदेश एवं केन्द्र सरकार दोनो की हैं। दोनो ही सरकारों के मुखिया और राज्यपाल की मौजूदगी में इतनी शर्मनाक घटना का होना बदनुमा दाग है।
धरने को सम्बोधित करते हुये राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल दुबे ने कहा कि बनारस हिन्दू विवि में  एक छात्रा लगातार डेढ वर्षो से सिर मुड़ाकर सुरक्षित रहने के लिए विवि आती थी उस पर किसी ने ध्यान देने की जरूरत नहीं समझी और तो और वहां के कुलपति छात्राओं के आन्दोलन पर 36 घण्टे तक आंख और कान दोनो बंद किये रहे और छात्राओं के ऊपर इसलिए लाठियां चलवायी कि उन्होंने अपनी बात देश के प्रधानमंत्री तक पहुंचाने के लिए उनके जाने वाले रास्ते पर धरना दे रखा था। श्री दुबे ने कहा कि बी0एच0यू0 में जो कुछ भी हुआ उसके लिए वहां के कुलपति जिम्मंेदार है और उनको बर्खास्त कर देना चाहिए।
रालोद कार्यकर्ताओं ने मांग की कि बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी के  वी0सी0 को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त किया जाय, दोषी प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को तत्काल निलम्बित करके किसी अन्य जनपद में सम्बद्व किया जाय, ऐतिहासिक यूनिवर्सिटी की शर्मनाक घटना होने के कारण सम्पूर्ण प्रकरण की जांच मा0 उच्च न्यायालय के वर्तमान न्यायमूर्ति से करायी जाय तथा प्रदेश के समस्त विवि की आंतरिक सुरक्षा के लिए विशेष रूप से निर्देषित किया जाय।
धरने को मुख्य रूप से हाजी वसीम हैदर, प्रदेष प्रवक्ता सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी, प्रो0 वाई0डी0 शुक्ला, युवा रालोद के प्रदेश अध्यक्ष अम्बुज सिह पटेल, छात्र नेता ज़ियाउर्रहमान, धमेन्द्र यादव, किरन सिंह, बी0एल0 प्रेमी, रमावती तिवारी, प्रीति श्रीवास्तव, एम0ए0 आरिफ, जय सिंह वर्मा, आर0 पी0 सिंह चौहान, मनोज सिंह चैहान, अनिल सिंह, महबूब आलम, बेलाल अहमद, चन्द्रकांत अवस्थी, आनंद बाजपेई, राजेन्द्र रावत, अष्वनी सिंह, बलवान सिंह यादव, अंकुर सक्सेना, गोविंद सिंह चंदेल, लक्ष्मी गौतम, अजय मिश्रा, अनिल रस्तोगी, अनिल पटेल, शोएब उस्मानी, सुमित आदि रालोद नेताओं ने भी संबोधित किया ।