बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
February 24, 2024
दिल्ली-एनसीआर ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति राष्ट्रीय

मनमोहन सिंह होते तो इस्तीफा दे देते, एलएसी के हालात को लेकर राहुल ने किए पीएम पर हमला

  • December 29, 2021
  • 0 min read
मनमोहन सिंह होते तो इस्तीफा दे देते, एलएसी के हालात को लेकर राहुल ने किए पीएम पर हमला

नई दिल्ली। उन्होंने कहा कि एक बार कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में उन्होंने पूछा कि क्या कोई ऐसा व्यक्ति मौजूद है जो घर छोडक़र भागा हो, किसी ने हां में जवाब नहीं दिया। यही सवाल आरएसएस की सभा में पूछा जाए तो प्रत्येक व्यक्ति का उत्तर हां में होगा।

एलएसी के हालात को लेकर राहुल गांधी ने फिर से पीएम नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला किया है। उनका कहना है कि कांग्रेस शासन में चीन ने देश की हजार किलोमीटर जमीन पर अतिक्रमण नहीं किया। ऐसा होता तो हमारे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह बिना डर के सच्चाई स्वीकार कर अपना इस्तीफा सौंप देते। लेकिन भाजपा वाले सच को छिपाने में लगे हैं। राहुल राजस्थान कांग्रेस के प्रशिक्षण शिविर के समापन पर बोल रहे थे।

कांग्रेस नेता ने हिंदुत्व को लेकर फिर से भाजपा व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस की लक्ष्मण रेखा सत्य है जबकि भाजपा की लक्ष्मण रेखा सत्ता है। उन्होंने कहा कि हिंदुत्व की विचारधारा मानने वाले किसी के भी सामने सिर झुका देते है। इन लोगों ने अंग्रेजों के समक्ष सिर झुकाया। अब ये पैसों के आगे झुक जाते है, क्योंकि इनके दिलों में सच्चाई नहीं है।

राहुल ने आजादी के आंदोलन के दौरान जवाहर लाल नेहरू द्वारा नैनी जेल में बिताए दिनों को याद किया। नेहरू ने रिहा होते समय जेलरों को धन्यवाद देते हुए लिखा कि उन्हें कैद के दौरान बहुत कुछ सीखने को मिला। राहुल ने कहा कि नेहरू के इस वक्तव्य में कहीं भी नफरत एवं बदले की भावना नहीं थी। जबकि सावरकर ने अपनी पुस्तक में उल्लेख किया है कि उन्हें सबसे ज्यादा खुशी उस वक्त हुई जब उनके पांच साथियों ने मिलकर एक मुसलमान युवक की लाठियों से पिटाई की। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि यह एकतरफा लड़ाई थी, क्योंकि पांच लोगों ने मिलकर एक व्यक्ति के साथ मारपीट की।

उन्होंने कहा कि नेहरू ने अनेक वर्षों तक जेल में रहने के बाद भी दिल में नफरत नहीं थी। दूसरी ओर के व्यक्ति लोगों के साथ मिलकर हमले करते हैं, क्योंकि वे कायर थे। कांग्रेस नेता ने कहा कि जो लोग समस्या का सामना खड़े होकर करते हैं वो हिन्दू हैं। जो समस्या के सामने डर से सिर झुका देते हैं उनकी विचारधारा हिन्दुत्व है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के तानाशाही निर्णयों का सामना डटकर राहुल गांधी ने किया है, यह विचारधारा हिन्दू है। जिन लोगों ने नरेंद्र मोदी के गलत निर्णयों के सामने सिर झुका दिया वो हिन्दुत्व है।

उन्होंने कहा कि एक बार कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में उन्होंने पूछा कि क्या कोई ऐसा व्यक्ति मौजूद है जो घर छोडक़र भागा हो, किसी ने हां में जवाब नहीं दिया। यही सवाल आरएसएस की सभा में पूछा जाए तो प्रत्येक व्यक्ति का उत्तर हां में होगा। राहुल गांधी ने कहा कि भागता वही है जो जिम्मेदारी नहीं निभा सकता और जिसके दिल में प्रेम नहीं है।