बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
June 16, 2024
उत्तर प्रदेश उत्तर प्रदेश दिल्ली-एनसीआर ब्रेकिंग न्यूज़

करोड़ों की चोरी के मामले में बड़ी कार्रवाई, आईपीएस अफसर धीरज सेतिया निलंबित

  • December 12, 2021
  • 1 min read
करोड़ों की चोरी के मामले में बड़ी कार्रवाई, आईपीएस अफसर धीरज सेतिया निलंबित

गुरुग्राम में एक बिल्डर के फ्लैट से करोड़ों रुपये की चोरी मामले में संलिप्तता मिलने पर भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) धीरज सेतिया को सस्पेंड कर दिया गया है। निलबंन के आदेश अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राजीव अरोड़ा ने शुक्रवार को जारी किए गए।

करोड़ों रुपये की चोरी के मामले में आरोपी के इकबालिया बयान के आधार पर आईपीएस अधिकारी धीरज सेतिया को जांच से जुड़ने को कहने के कई दिन बाद शुक्रवार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। रोहतक के सुनारिया में तीसरी इंडिया रिजर्व बटालियन के कमांडेंट के पद पर तैनात आईपीएस अधिकारी को जांच से जुड़ने को कहा गया था। आरोपी के इकबालिया बयान के आधार पर पिछले महीने भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम-1988 की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।

वहीं, इस मामले में आईपीएस धीरज सेतिया को एसटीएफ ने आरोपी बनाया है और उनके खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम और आईपीसी की धारा 411 को जोड़ा गया था। बता दें कि एसटीएफ ने आईपीएस से पूछताछ के लिए दो बार नोटिस भी भेजा था, लेकिन वे जांच में शामिल होने के लिए नहीं पहुंचे। एसटीएफ की एक टीम मंगलवार सुबह आईपीएस के घर पर भी गई थी, लेकिन वहां पर टीम को आईपीएस व उनका परिवार नहीं मिला।

गृह विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि निलंबित रहने के दौरान धीरज सेतिया का मुख्यालय पंचकूला स्थित पुलिस महानिदेशक का कार्यालय (पुलिस मुख्यालय) होगा। हालांकि, आदेश में निलंबन का कारण नहीं बताया गया है। धीरज पहले गुरुग्राम के पुलिस उपायुक्त के पद पर तैनात थे।

बता दें कि गैंगस्टर विकास लगरपूरिया को बिल्डर के रुपयों के बारे में डॉ.सचेंद्र जैन नवल ने जानकारी दी थी। उसके बाद सेक्टर-84 स्थित सोसाइटी में बने फ्लैट के पास गैंगस्टर के गुर्गों ने फ्लैट को किराये पर लिया था। उसके बाद बिल्डर के दो अलग-अलग फ्लैट से 20 करोड़ से ज्यादा रुपयों को चोरी किया था। चोरी करने के बाद गैंगस्टर के गुर्गों ने लगभग 13 से 14 करोड़ रुपये एक युवक को दिए थे। उसके बाद अगले दिन सुबह उससे सभी रुपये दिल्ली पुलिस के एएसआई विकास गुलिया लेकर गया थ। इसके अलावा साढ़े नौ करोड़ रुपये पहले दिन दिए गए थे।