बेबाक, निष्पक्ष, निर्भीक
February 24, 2024
उत्तर प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़ राष्ट्रीय

मेरठ की महिला प्रोफेसर ने दी थी डीन की हत्या की सुपारी, बिल्डर प्रेमी के साथ मिलकर ऐसे रची साजिश-

  • March 22, 2022
  • 1 min read
मेरठ की महिला प्रोफेसर ने दी थी डीन की हत्या की सुपारी, बिल्डर प्रेमी के साथ मिलकर ऐसे रची साजिश-

मेरठ | महिला प्रोफेसर ने दी थी डीन की हत्या की सुपारी, पद हासिल करने को प्रेमी संग रची साजिश कृषि विवि के वेटनरी डीन पर हमले के मामले में सनसनीखेज खुलासा हुआ है। साथी महिला प्रोफेसर ने डीन बनने के लालच में प्रेमी के साथ मिलकर हत्या के लिए पांच लाख की सुपारी दी थी। पुलिस ने महिला प्रोफेसर के प्रेमी, सुपारी दिलाने वाले आरोपी और उधम सिंह गैंग के शूटर को गिरफ्तार किया है। वेटनरी डीन डा. राजवीर सिंह पर 11 मार्च की शाम गोलीबारी हुई थी।

एसएसपी ने सोमवार को खुलासा किया कि डा. राजवीर सिंह के साथ काम करने वाली महिला प्रोफेसर डा. आरती भटेले खुद डीन बनना चाहती थी। उन्होंने राज्यपाल से कई बार डा. राजवीर की योग्यता को लेकर शिकायत भी की थी। बाद में आरती ने अपने प्रेमी बिल्डर अनिल बालियान के साथ मिल कर राजवीर की हत्या की साजिश की। इसमें अनिल ने पड़ोसी मुनेंद्र बाना की मदद ली। मुनेंद्र ने अपने साले और उधम सिंह गैंग के शूटर आशु को हत्या की सुपारी दिलाई। आशु ने नदीम निवासी हापुड़ के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया। डा. आरती और नदीम अभी फरार हैं।

वारदात के वक्त प्रेमी संग मॉल में थी प्रोफेसर-
डीन की हत्या की साजिश को शातिराना अंदाज में प्लान किया गया। रेकी करने से लेकर खुद को बचाने की पहले से ही प्लानिंग की गई थी। यही कारण था कि वारदात के समय आरोपी महिला प्रोफेसर और उसका प्रेमी अनिल बालियान शॉपरिक्स मॉल में शॉपिंग करने पहुंच गए और खुद की उपस्थिति दूसरी जगह दिखाई। एसएसपी ने बताया कि डा. आरती भटेले और बिल्डर अनिल बालियान के बीच वर्ष 2014 से परिचय था। एसएसपी ने बताया कि डीन डा. राजवीर को मारने के लिए करीब 3 माह से प्लानिंग की जा रही थी। पूरी प्लानिंग इस तरह से की गई कि पुलिस वारदात के बाद कड़ियां न जोड़ पाए। ऐसे में सभी आरोपियों ने आपस में फोन पर बातचीत कम कर दी थी और केवल व्हाट्सएप कॉल की जा रही थी। वारदात से कुछ ही समय पहले ही अनिल ने व्हाट्सएप कॉल करके डा. आरती को अपने पास कॉलोनी में बुलाया और यहीं से दोनों शॉपिंग के लिए शॉपरिक्स मॉल पहुंच गए। यहां लगातार दोनों कैमरे के सामने मौजूद रहे, ताकि कोई परेशानी होने पर पुलिस को कैमरे की फुटेज दिखाकर गुमराह किया जा सके।

अनिल ने दी थी अपनी पिस्टल-
पूछताछ में खुलासा हुआ कि अनिल ने डीन की हत्या के लिए अपनी .30 बोर की पिस्टल भी आशु को दी थी। आरोपी को 7 मार्च को रेकी कराने के बाद लाइसेंसी पिस्टल और 9 मैगजीन दी गई। इन सभी मैगजीन में 63 गोलियां थी। बताया था कि तमंचे से बात न बने तो पिस्टल से गोली चला देना। पुलिस ने यह पिस्टल भी बरामद की है।

17 मार्च को फरार हो गई महिला प्रोफेसर-
मेरठ। शातिर महिला प्रोफेसर को भनक लग गई थी कि पुलिस छानबीन में लगी है और अनिल रडार पर है। ऐसे में डा. आरती भटेले ने 17 मार्च को छुट्टी के लिए आवेदन किया और फरार हो गई। उसका मोबाइल फोन बंद है। वहीं दूसरी ओर पुलिस पूछताछ में अनिल ने यह भी खुलासा किया कि आरती ने ही उकसा कर वारदात कराई थी। बताया गया कि डा. आरती तलाकशुदा है, इसलिए उन्होंने अनिल के साथ प्रेम प्रसंग बढ़ाया। पिछले कुछ माह से वह लगातार अनिल को इस बात के लिए तैयार कर रही थी कि वह डीन को किसी तरह से रास्ते से हटा दे। इसके बाद अनिल ने अपने पड़ोसी मुनेंद्र के साथ मिलकर पूरी प्लानिंग तैयार की थी। सुपारी देने के लिए अनिल ने ही फिलहाल रकम मुनेंद्र और उसके साथियों को दी थी। पूछताछ में खुलासा हुआ कि आशु 9 फरवरी को डासना जेल से छूटकर आया है। आशु और नदीम के साथ 4 मार्च को मुनेंद्र के घर मीटिंग हुई। इस दौरान एक लाख एडवांस दिया गया। 7 मार्च को डा. राजवीर की रेकी अनिल ने अपनी स्कार्पियो से कराई थी। गाड़ी में नदीम और आशु थे |